P.V Sindhu          image source

हेलो फ्रेंड्स,

आप सबको पता होगा मेरी पसंदीदा खेल बैडमिंटन है और उनमें से मेरी सबसे पसंदीदा खिलाड़ी पीवी सिंधु है। जिसकी प्रेरणा से आज मैं थोड़ा बहुत बैडमिंटन खेलता हूं और साथ में बहुत खुश भी रहती हूं। पीवी सिंधु का संपूर्ण नाम पुसरला वेंकेट सिंधु है। जिनकी जन्म 5 जुलाई 1995 को हुआ था और उनके पिता का नाम पी वी रमन और माता का नाम पि0 विजया है। पीवी सिंधु के पिता और माता दोनों ही हमारे देश के पूर्व वॉलीबॉल खिलाड़ी थे और वर्ष 2000 में उनकी पिता पी वी रमन को खेल के लिए अर्जुन अवार्ड से भी सम्मानित किया गया था। अतः इसे से प्रतीत होता है कि पीवी सिंधु को खेल में रूचि होने का कारण यह था की उन्होंने अपने घर में इस प्रकार का माहौल पहले से ही देख कर आया था।

हाल ही में चल रहे जापान ओपन में पी वी सिंधु ने भाग लिया था और कल जापान ओपन की फर्स्ट राउंड में पीवी सिंधु ने सकया ताकाहाशी को २१-17 ७-21 एवं २१-१३ से हराकर सेकंड राउंड में प्रवेश किया था। परन्तु सेकंड राउंड की पहेली ०२ पारी में पी वी सिंधु ने चीन के गाओ के साथ १८-२१ एवं १९-२१ से हार सीकर कर लिया है। पी वी सिंधु के ऊपर भारत हो बहुत आशा था परन्तु उस आशा के ऊपर वह खड़ी उतर नहीं पायी। मैच हारने के बाद सिंधु को देख कर ऐसा लग रहा था की वह बहुत अकेला हो गया और बहुत अकेलापन महसूस कर रही थी। जो उनके चेहरे पर दिखाई दे रही थी और ऐसा लग रही थी की सूरज उगने से पहले डूब गया। क्योंकि सिंधु के ऊपर सभी भारतीयों को बहुत आशाय थी और उनके खुद के ऊपर भी आत्मविश्वास थी, परन्तु दुर्भाग्य वश: वह इस मैच में उस को हार स्वीकार करनी पड़ी।

एशिया कप फाइनल में चाइनीस खिलाड़ी के साथ फाइनल हारने के बाद जो दुख हुई थी, उन्हें उसी दुख को खत्म नहीं होते ही फिर दोबारा एक बहुत बड़ा झटका लग गया है, जिससे सिंधु बहुत असहाय हो गया है और साथ ही सिंधु की हार के पश्चात जापान ओपन में भारतीय महिला की सिंगल बैटमिंटन की मैच खत्म हो गया है, क्योंकि इसके पश्चात और जापान ओपन में खेलने वाला अकेली महिला कोई नहीं है।

दूसरी तरफ जापान ओपन की सेकंड राउंड में एच ऐश प्रणय ने हार स्वीकार कर लिया है और टूर्नामेंट से आउट हो गया है। परंतु फर्स्ट राउंड एवं सेकंड राउंड जीतने के बाद पुरुष सिंगल्स में श्रीकांत ने क्वार्टर सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया है। यह हमारे लिए एक खुशी की खबर है। मुझे उम्मीद है कि श्रीकांत अगला मैच जीतकर सेमीफाइनल में प्रवेश करेगा और हमारे भारतवर्ष का नाम रोशन करेगा। जय हिंद जय भारत 

आपको मेरा यह पोस्ट कैसा लगा और इस पोस्ट के बारे में आपका कोई सुझाव है तो कमेंट बॉक्स में जरूर लिखना।

धन्यवाद